जाने का नहीं शोर सुख़न का मिरे हरगिज़: मीर तक़ी मीर
Coherent Identifier 20.500.12592/qx9qtj

जाने का नहीं शोर सुख़न का मिरे हरगिज़: मीर तक़ी मीर

21 September 2023

Summary

मीर तक़ी मीर, जिन्हें ख़ुदा-ए-सुख़न भी कहा जाता है, उर्दू के सबसे बड़े शा'इर हैं। मीर को ये दर्जा केवल उनकी शा'इरी की वजह से नहीं, ज़बान की इर्तिक़ा में उनके योगदान की वजह से भी हासिल है। शा'इरी का हर रंग उनके यहाँ नुमायाँ मिलता है, और इस लिहाज से वो उर्दू के वाहिद मुकम्मल शा'इर कहे जा सकते हैं। The post जाने का नहीं शोर सुख़न का मिरे हरगिज़: मीर तक़ी मीर appeared first on Best Urdu Blogs, Urdu Articles, Urdu Shayari Blogs.

Published in
India
Rights
© Ayush Singh

Creators/Authors

Tags

urdu poetry uncategorized urdu shayari mir-taqi-mir death anniversary